New changes of income tax

             New changes of income tax

अब सरकार ने काले धन पर नया कानून बनाने के लिए गठित समिति ने खर्च किए जा सकने वाले धन को बढ़ाने व उपभोक्ताओं की मांग को गति देने के लिए व्यक्तिगत आयकर ढांचे में बदलाव का सुझाव दिया है

मौजूदा कानून में 4 टैक्स
स्लैब का प्रस्ताव किया गया है इसमें दो करोड़ या इससे ज्यादा सालाना कमाई वालों के लिए 35% टैक्स लिया जाएगा प्रत्यक्ष टैक्स संहिता टीडीसी पर गठित समिति ने यह भी सुझाव दिया है की आयकर से छूट के लिए आमदनी की अधिकतम सीमा मौजूदा ढाई लाख से बढ़ाकर ₹500000 सालाना की जानी चाहिए

https://www.vikramsaroj.com/2019/09/new-changes-of-income-tax.html


New changes of income tax
समिति ने 500000 से 1000000 रुपए पर 10% 1000000 से ₹2000000 पर 20% और 2000000 से 2 करोड रुपए सालाना आमदनी पर 30% टैक्स लगाने का प्रस्ताव किया गया है इस समय ढाई लाख से ₹500000 रुपए व्यक्तिगत आमदनी पर 5% 500000 और 1000000 रुपए के बीच की आमदनी पर 20% और ₹1000000 से ज्यादा आमदनी पर 30% लगाया जाएगा मौजूदा टैक्स ढांचे में 10% टैक्स नहीं लगता है अगर यह सिफारिशें लागू की जाती है तो 5% टैक्स का कोई ढांचा नहीं होगा

New changes of income tax
इस साल से जिन लोगों की सालाना आमदनी ₹500000 है उन्हें टैक्स में ₹12500 की छूट मिलती है इसकी वजह से ₹500000 तक की सालाना आमदनी टेक्स मुक्ति मिलेगी टैक्स ढांचे में बदलाव की वजह बताते हुए एक सूत्र ने कहा कि या टैक्स ढांचा खपत और मध्य आय वर्ग की ओर से निवेश बढ़ा सकता है टै
   
https://www.vikramsaroj.com/2019/09/new-changes-of-income-tax.html

style="display: block; text-align: center;">New changes of income tax
कटौती किए जाने से 500000 से 2000000 रुपए सालाना कमाने वाले ज्यादा खर्च कर सकेंगे विशेषज्ञों का कहना है कि टैक्स दरों में कटौती से खजाने को नुकसान होगा बरहाल या विभिन्न निवेश चक्र है और आर्थिक वृद्धि पर निर्भर करता है


अगर दरों में कटौती किए जाने से अनुपालन बढ़ता है तो दो-तीन साल में स्थिरता आ जाएगी सरकार ने केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड के सदस्य अखिलेश रंजन की अध्यक्षता में कार्यबल का गठन किया था जिसने अपनी रिपोर्ट में 19 अगस्त को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण को सौंप दी है

New changes of income tax
नई टैक्स संहिता का लक्ष्य टैक्स कानून आसान बनाना है जो इस समय जटिल है साथ ही छूट की संख्या कम करना भी इसका मकसद है इस रिपोर्ट को पेश करने की तिथि में कई बार बदलाव करने पड़े मूल रूप से समिति को 28 फरवरी को अपनी रिपोर्ट सौंप दी थी 
Previous
Next Post »

e-way bills curb tax evasion, but glitches remain

E-Way bills curb tax evasion, but glitches remain There are numerous concerns on the functioning of the GST regime, launched two years a...